Categories
Development and good news Travel

भागलपुर को मिला 4 और नया बस, अलग अलग रूट पर सस्ते में शुरू हो जाएगा सफ़र

भागलपुर के लिए खुशखबर है। पथ परिवहन निगम को चार नई बसें मिलने वाली हैं। एक जून को चार नई बसों के परमिट के लिए पथ परिवहन निगम क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार के समक्ष आवेदन करेगा, जिसमें एक बस बांका के लिए खुलेगी। तीन नई बसों का रूट भी जल्द निर्धारित होगा।

पथ परिवहन निगम नई बसों के रूट निर्धारण पर चर्चा कर रहा है।

हाल ही में भागलपुर से बांका चानन तक बस सेवा की शुरुआत की गई है। दो वर्ष से भागलपुर और बांका चानन के बीच बस सेवा बंद थी। पहले बस सेवा की शुरुआत के बाद ग्राहकों का बेहतर रिस्पांस मिल रहा है। ऐसे में बांका के लिए एक और बस चलाने का निर्णय लिया है। सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक संचालन आरएन दुबे ने कहा कि परमिट के लिए आवेदन करने के बाद ही इस संबंध में कुछ कहा जा सकता है।

 

बस का किराया होगा मामूली और सरकारी दर पर.

अलग-अलग रूटों पर इन बसों का सेवा चालू किया जाएगा और सबसे अच्छी बात यह है कि सरकारी रेट पर तय किए गए किराए के अनुसार ही इन बसों का संचालन एवं किराया वसूली किया जाएगा.

Categories
Development and good news Travel

भागलपुर को 7 जून को मिल जाएगा नया ग्रीन कॉरिडोर फोरलेन बायपास, खुद नितिन गडकरी आ रहे हैं शुरू करने

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी आगामी सात जून को भागलपुर आएंगे। वे यहां ग्रीन फील्ड कॉरिडोर के तहत मुंगेर-मिर्जाचौकी फोरलेन निर्माण कार्य का बायपास के पास शिलान्यास भी करेंगे। गडकरी के साथ मोर्थ के वरिष्ठ अधिकारियों की टीम भी भागलपुर आएगी, जो केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (मोर्थ) के अधीन आने वाली तमाम योजनाओं का स्थल निरीक्षण करेंगे और परियोजना में देरी की वजह जान उचित समाधान भी करेंगे। गडकरी के भागलपुर दौरे का पत्र एनएचएआई को मिला है। इसके बाद तैयारी शुरू हो गई है।

 

एनएचएआई के अधिकारियों ने बताया कि मंत्रालय द्वारा बताया गया है कि मुंगेर-मिर्जाचौकी फोरलेन निर्माण कार्य का स्थलीय निरीक्षण करने के अलावा गडकरी विशेषज्ञों के साथ निर्माणाधीन सुल्तानगंज-अगुवानी पुल का भी निरीक्षण करेंगे। पिछले माह तेज आंधी-बारिश में पुल का स्ट्रक्चर गिर जाने की घटना को लेकर दिल्ली के एक कार्यक्रम में गडकरी ने चिंता भी जताई थी। गडकरी विक्रमशिला सेतु के समानांतर बनने वाले पुल का निर्माण स्थल भी देखेंगे। इसके अलावा एनएचएआई के चेयरमैन व उपाध्यक्ष के साथ जिले में चल रही तमाम योजनाओं की जानकारी लेंगे और मोर्थ लेवल पर पेंडिंग मामलों की समीक्षा करेंगे।

 

 

Categories
Development and good news Travel

भागलपुर रूट हुआ देवघर – गुवाहाटी Express ट्रेन का, कामाख्या, देवघर, सिलीगुड़ी, असम घूमना हुआ आसान

भारतीय रेल भागलपुर होकर गुहवाटी-देवघर स्पेशल ट्रेन का परिचालन होगा। सप्‍ताह में एक दिन यहां के यात्री इस रेल गाड़ी से परिचालन कर सकेंगे। हालांकि रियायती बुकिंग इस ट्रेन में अनुमति नहीं होगी। तत्काल कोटा का भी लाभ नहीं मिलेगा।

Railways news : गुवाहाटी से पूर्व बिहार होते हुए झारखंड के देवघर के लिए स्पेशल ट्रेन की शुरुआत 22 मई से हो चुकि है. पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी वीरेंद्र कुमार के मुताबिक, कटिहार-नवगछिया-मुंगेर-भागलपुर के रास्ते गुवाहाटी और देवघर के बीच एक स्पेशल ट्रेन का परिचालन किया गया.

देवघर से गुवाहाटी के लिए 23 मई को खुली

यह स्पेशल ट्रेन गुवाहाटी से 22 मई और देवघर से 23 मई को खुल चुकी है . ईसीआर के सीपीआरओ वीरेंद्र कुमार ने बताया कि गाड़ी संख्या 05626 गुवाहाटी-देवघर स्पेशल ट्रेन गुवाहाटी से 22 मई को सुबह 08.30 बजे खुल चुकी है. यह ट्रेन रात 09.25 बजे कटिहार पहुंचेगी. इसके बाद रात 10.28 बजे नवगछिया और 11.36 बजे खगड़िया पहुंचेगी.

 

सोमवार सुबह सात बजे पहुंचेगी देवघर, शाम साढ़े सात में होगी रवाना

यह स्पेशल ट्रेन अगले दिन सुबह सात बजे देवघर पहुंचेगी. वापसी में यह स्पेशल ट्रेन 05625 देवघर-गुवाहाटी स्पेशल देवघर से 23 मई को शाम 07.30 बजे खुलेगी, जो अगले दिन रात 00.38 बजे खगड़िया, 01.33 बजे नवगछिया और 03.00 बजे कटिहार पहुंचेगी. यह ट्रेन शाम 16.05 बजे गुवाहाटी पहुंचेगी.

कई स्टेशनों पर रुकेगी देवघर-गुवाहाटी स्पेशल ट्रेन
देवघर-गुवाहाटी स्पेशल ट्रेन अप और डाउन में

  • कामाख्या,
  • रंगिया,
  • न्यू बोगाईंगांव,
  • न्यू कूचबिहार,
  • न्यू जलपाईगुड़ी, (सिलीगुड़ी)
  • किशनगंज,
  • बारसोई,
  • कटिहार,
  • नवगछिया,
  • खगड़िया,
  • मुंगेर,
  • भागलपुर और
  • बांका स्टेशनों पर रूकेगी.
Categories
Bihar Development and good news Opinions

होटल और रेस्टूरेंट के बिल में सर्विस चार्ज जोड़ना अवैध घोषित, अगर बिल वसूला तो होगा जुर्माना

होटल और रेस्तरां में खानपान बिल के साथ सर्विस चार्ज अथवा टिप्स वसूलने पर केंद्र सरकार ने सख्त नाराजगी जताई है। सर्विस चार्ज या टिप्स देना उपभोक्ता की इच्छा पर निर्भर करता है, जिसे वसूलना रेस्तरां का अधिकार नहीं है। केंद्रीय उपभोक्ता मंत्रलय ने इस बाबत दो जून को नेशनल रेस्टोरेंट एसोसिएशन को चर्चा के लिए तलब किया है। इसके पूर्व मंत्रलय की ओर से चेतावनी के साथ निर्धारित गाइडलाइन पर अमल का निर्देश दिया गया था, जिसे नजरअंदाज करने वाले रेस्तरां और होटल संचालकों को कड़ा दंड भुगतना पड़ सकता है।

 

खानपान बिलों के साथ रेस्तरां में बिना किसी पूर्व सूचना के उपभोक्ताओं से सर्विस चार्ज भी धड़ल्ले से वसूला जा रहा है। इसका विरोध करना कई बार उपभोक्ताओं को भारी पड़ता है। नेशनल कंज्यूमर हेल्पलाइन पर इस तरह की शिकायतों की भरमार है। खानपान की सुविधा मुहैया कराने वाले होटलों और रेस्तरां के खिलाफ आने वाली शिकायतों की समीक्षा करने के बाद उपभोक्ता मंत्रलय के सचिव रोहित कुमार सिंह ने रेस्टोरेंट एसोसिएशन के राष्ट्रीय संगठन को बातचीत के लिए आमंत्रित किया है। उन्होंने रेस्तरां संचालकों को लिखे पत्र में विस्तार से बिल के साथ अवैध वसूली वाले सर्विस चार्ज का ब्योरा भी दिया है।

 

मंत्रलय ने रेस्तरां संचालकों को 21 अप्रैल, 2017 को सर्विस चार्ज को लेकर तैयार की गई गाइडलाइन भी भेजी है। इसके मुताबिक उपभोक्ता से खानपान बिल के साथ सर्विस चार्ज (टिप) वसूलने पर पाबंदी लगाई गई है। बिल में दर्ज खाने पीने की चीजों के साथ नीचे जीएसटी और फिर आखिर में सीएस (सर्विस चार्ज) जोड़ा जा रहा है। इसकी दर विभिन्न रेस्तरां में अलग-अलग होती है, जो 10 प्रतिशत से लेकर 20 प्रतिशत तक होती है। इसके भुगतान करने के लिए ग्राहकों पर दबाव भी बनाया जाता है।

 

पूर्व में दी गई चेतावनी को नजरअंदाज करना संचालकों को पड़ सकता भारी

बिना सूचना दिए उपभोक्ताओं से धड़ल्ले से वसूला जा रहा पैसा

 

बिल में सर्विस चार्ज जोड़ना ही गलत

निर्धारित गाइडलाइन में रेस्तरां केमेनू कार्ड में दर्ज मूल्यों के साथ टैक्स की निर्धारित दरों को ही बिल में शामिल किया जा सकता है। ग्राहक अथवा उपभोक्ता की सहमति के बगैर इस बिल में और कुछ भी शामिल नहीं किया जा सकता है। उपभोक्ता इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकता है। दो जून को होने वाली बैठक में इन सारे मुद्दों पर रेस्टोरेंट एसोसिएशन से विस्तृत चर्चा की जाएगी।

 

Categories
Bihar Development and good news

पटना में 4 जून से शुरू हो जाएगा गंगा पथ, बिन टोल टैक्स के होगी यात्रा, बिहार का पहला मरीन ड्राइव चालू

राजधानी का एक बड़ा सपना अगले महीने की चार तारीख को पूरा हो जाएगा। बिहार राज्य पथ विकास निगम (बीएसआरडीसी) इस तैयारी में लगा है कि चार जून को गंगा पथ के दीघा से पीएमसीएच तक के हिस्से को परिचालन के लिए उपलब्ध करा दिया जाए। पीएमसीएच वाले फ्लैंक की सड़क का कालीकरण भी आरंभ कर दिया गया है। पटना के लोगों के लिए उत्साह की बात यह है कि टोल टैक्स वाली इस सड़क पर फिलहाल कोई टोल टैक्स नहीं देना होगा। जब सड़क दीदारगंज तक बनकर पूरी हो जाएगी तब इस पर टोल टैक्स का प्रविधान किया जाएगा।

 

बांकीपुर-दानापुर रोड के जाम से मिल जाएगी मुक्ति:

इस सड़क पर वाहनों का परिचालन आरंभ हो जाने से बांकीपुर-दानापुर सड़क पर नियमित रूप से जाम ङोलने वाले लोगों को मुक्ति मिल जाएगी। लोगों को दीघा से पीएमसीएच तक जाम वाले इलाके से गुजरने के बजाय एक वैकल्पिक सड़क उपलब्ध हो जाएगा।

 

आने वाले समय में एलसीटी घाट के पास से भी मिलेगी कनेक्टिविटी :

बिहार राज्य पथ विकास निगम से मिली आधिकारिक जानकारी के अनुसार आने वाले समय में गंगा पथ को एलसीटी घाट के समीप से भी कनेक्टिविटी मिलेगी। फिलहाल एलसीटी घाट की कनेक्टिविटी को स्थगित रखा गया है। इस बारे में बताया गया कि एक लेन की सड़क का निर्माण पूरी तरह अभी नहीं हुआ है। निर्माण पूरा होने पर इसे खोला जाएगा।

Categories
Bihar Development and good news

Graduate चायवाली ने नही बंद किया दुकान, खोल दिया हैं बड़ा चाय का नया ब्रांड, नए लोकेशन पर शुरू हुआ काम

चाय एक ऐसी चीज़ है, जो बड़े से लेकर बूढ़े और आमिर से लेकर गरीब सभी लोग पीते है। वही अब देश में कई चाय के स्टार्टअप उभर रहे है, जिसमे एमबीए चाय वाला भी शामिल है। वही इस स्टार्टअप में बिहार क्यों पीछे रहे, आपको बता दूँ की अब बिहार में भी पटना में ग्रेजुएट चाय वाली का स्टार्टअप सुरु हुआ है। जिसको पटना में चाय वाली के नाम से भी जानते है, जो की आज से पहले पटना विमेंस कॉलेज के सामने लगा करता था, लेकिन अब इसका लोकेसन और दूकान भी बदल चूका है।

 

दरअसल आपको बता दूँ की पटना की ग्रेजुएट चाय वाली का अब नया स्टाल राजधानी पटना के पटना विमेंस कॉलेज के पास नहीं लग रहा है। अब इसका लोकेसन बदल चूका है। आपको बता दूँ की अब ग्रेजुएट चाय वाली अपना चाय का नया दूकान शुरू कर दी है, और अब इस दूकान को पटना के बोरिंग रोड एसकेपुरी पार्क के पास बीकानेर स्वीट्स के सामने इस नए स्टाल को लगाया गया है।

 

आपको बता दूँ की अब इस ग्रेजुएट चाय वाली का नया स्टाल पूरी तरह से हाई टेक हो चूका है। और पूरी तरह से बदला बदला दिख रहा है, जहाँ पर आपको हाई टेक स्टाल है वही यहाँ पर आपको कई अलग अलग फ्लावर में भी आपको चाय पिने के लिए आपको मिलने वाला है। आपको बता दूँ की ग्रेजुएट चाय वाली ने अपना स्टाल छोटा स्टाल से सुरु की थी और आज वही अपने मेहनत के दम पर अब नया स्टाल और पहले से ज्यादा बड़े स्टाल शुरू कर दी है

Categories
City Deals Development and good news Politics Travel

बलिया लिंक एक्सप्रेस-वे रद्द, बिहार के हरे-भरे घास के मैदानों को जोड़ता है 17 किमी लंबा “बक्सर स्पर”

 

 

 

 

 

 

संग्राम सिंह, बलिया : गाजीपुर से बली तक प्रस्तावित ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे से मंजीघाट तक पूर्वांचल ही नहीं, बिहार को भी गति देने का मौका दिया जाएगा. स्वीकृत बलिया लिक मोटरवे परियोजना को एक साल पहले रद्द कर दिया गया था। इसके स्थान पर वर्तमान में ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे परियोजना निर्माणाधीन है।यह परियोजना गाजीपुर के जगीपुर से शुरू होकर मांझीघाट में समाप्त होती है. स्वीकृत संरेखण के अनुसार, परियोजना गाजीपुर के उत्तमनगर में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से भी जुड़ती है।करीब चार किलोमीटर आगे करीमुद्दीनपुर को बक्सर और एरा जिलों से जोड़ने के लिए 17.27 किलोमीटर लंबी “बक्सर स्पार” परियोजना को मंजूरी दी गई। यह दो लेन की सड़क होगी, जो राष्ट्रीय राजमार्ग-82 (बलिया-बक्सर-आरा राष्ट्रीय राजमार्ग) होगी।

लेकिन यह गंगा पुल पर समाप्त होगा जो बलिया के भटौली से खडीहा होते हुए लगभग एक किलोमीटर आगे है। इसका निर्माण 260 करोड़ रुपये में किया जाएगा। करीमुद्दीनपुर में एक आरओबी (रेलवे ओवरब्रिज) भी बनेगा, इसके निर्माण पर 150 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। आपका प्रोजेक्ट स्वीकृत हो गया है।

भूमि अधिग्रहण के आदेश दिए गए, उत्तर प्रदेश एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीआईडीए) और गाजीपुर व बलिया प्रशासन को जमीन का ब्योरा लेने के लिए पत्र लिखा गया. मुआवजे की राशि का आकलन किया जा रहा है।इसके आधार पर विस्तार परियोजना की रिपोर्ट तैयार की जाएगी। हम जानते हैं कि ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे पहले से ही NH-29 (गोरखपुर-गाजीपुर-वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग) और NH-19 (गाजीपुर-बलिया-मंजीघाट राष्ट्रीय राजमार्ग) से जुड़ा हुआ है, इसलिए NH 84 के माध्यम से बक्सर स्पर परियोजना को इसमें शामिल किया जाएगा। होगा।

तीसरे राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़ाव का कारण। जैसे एक्सप्रेस-वे को मिले 50 करोड़ रुपये, अब बचेंगे 700 करोड़ रुपये

बलिया लिक एक्सप्रेसवे परियोजना को एक साल पहले मंजूरी मिली थी। उन्हें गाजीपुर के हरदिया से प्रस्थान कर बलिया में तर्था (फफना) गांव बनाना था। राज्य सरकार ने 33 किमी लंबी परियोजना के लिए लगभग 50 करोड़ रुपये भी प्रदान किए।

करीब 70 करोड़ रुपये की कार्ययोजना भी तैयार की गई। 23 किमी सड़क गाजीपुर में जबकि 10.20 किमी बलिया में थी। दिल्ली की कंपनी एलएन मालवीय ने सर्वे कर डीपीआर तैयार करने का जिम्मा लिया है। कंपनी ने सर्वेक्षण को भ्रमित किया।उन्होंने बलिया में 10 गांवों की पहचान की जो राष्ट्रीय राजमार्ग -19 से भी प्रभावित थे। इसके लिए अपर सचिव अवनीश अवशी ने कंपनी को नोटिस जारी किया है. नया गठन करने के आदेश दिए गए थे। इस तरह के नुकसान के बाद परियोजना को रद्द कर दिया गया था जिससे लगभग 700 करोड़ रुपये की बचत होगी।

बलिया लाइक एक्सप्रेसवे परियोजना रद्द कर दी गई है। इसके बजाय, ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे परियोजना का विस्तार हो रहा है। यह प्रोजेक्ट लिक हाईवे से बेहतर साबित होगा। इसके जरिए विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गों से कनेक्टिविटी होगी। – एसके पाठक, परियोजना प्रबंधक, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, आजमगढ़

Categories
Bihar Development and good news Opinions

भागलपुर: विक्रमशिला ब्रिज जाम के कारण पीड़ित उम्मीदवार, बाइक से ब्रिज पार किया गया

विक्रमशिला सेट के ट्रैक्टर में खराबी आने से जाम का सिलसिला जारी रहा, जो शनिवार से रविवार सुबह तक चला। जाम से छात्रों को काफी परेशानी हो रही है।

भागलपुर : विक्रमशिला सेतु का ट्रैक्टर फेल होने से शनिवार से रविवार की सुबह तक जाम की स्थिति बनी रही. विक्रमशिला सेट में भीड़भाड़ के कारण रविवार सुबह तक जांच में कई दिक्कतें आएंगी। कई परीक्षार्थियों को मोटरसाइकिल पर विक्रमशिला ब्रिज पर भेजा गया ताकि वे समय पर परीक्षा केंद्र पर पहुंच सकें और बीपीएससी परीक्षा पास कर सकें।

 

एम्बुलेंस फंस गई थी और पुलिस की कारें भी थीं

सीबीएसई आयोग की परीक्षा पास करने वाली परीक्षाएं भी शनिवार को काफी व्यस्त रहीं। एंबुलेंस समेत कई बुनियादी कंपनी के वाहन भी जाम में फंस गए हैं। पुल पर जाम का असर भी देखने को मिला। जाह्नवी चौक से टेट्री तक गाड़ियों की लंबी लाइन लगती है. विक्रमशिला सेतु पर जहां ट्रैफिक जाम में बैठे कारों में सवार यात्री गुस्से में नजर आए, वहीं पुलिस और नगर निगम के अधिकारी अपने काफिले के साथ जाम में फंस गए

 

बाइपास पर भी वाहनों की लंबी कतारें

सर्किट पर भी विक्रमशिला सेतु जाम का असर देखा गया। चक्कर लगाने पर भी लंबी कतार लगी रही। धूप से यात्री व बच्चे परेशान दिखे। फाइल के जरिए पुलिस सक्रिय हो गई। खराब ट्रैक्टर को किसी तरह निकाला गया। फिर कारों के लिए सड़क को संशोधित किया गया। एक घंटे से अधिक की मशक्कत के बाद कारों को लाइन में खड़ा कर आगे बढ़ाया गया। इस काम में पुलिस अधिकारी भी लगे हुए हैं। जाम से बाहर निकले लोगों ने राहत की सांस ली।

 

ओवरटेक करने में दुर्घटना …. कारण  है जाम

 विक्रमशिला सेतु गड्ढे का मुख्य कारण ओवरटेक करना था। वाहन चालक वाहन से आगे निकल जाएंगे। इसी क्रम में एक कार की टक्कर हो गई। विक्रमशिला सेट में एक कार दुर्घटना के कारण ट्रैफिक जाम हो गया था। छोटी कारों और कुछ बड़ी कारों को ओवरटेक करने से हमेशा पुल या सड़क अवरुद्ध हो जाती है।

 

Categories
Development and good news Travel

भागलपुर गंगा पर ऐसा 4-लेन पुल की नीचे से फिर चालू होगा पानी जाहाज, कहलगाँव और मुंगेर के लिए क्रूज़

गंगा पर प्रस्तावित फोरलेन पुल निर्माण के लिए आगामी 18 मई को निविदा खुलेगी। इस पुल का निर्माण विभाग के अभियंता नहीं बल्कि कंसलटेंसी की निगरानी में होना है। पिलर गाड़ने से लेकर पुल निर्माण से संबंधित मानकों के हरेक पहलुओं पर कंसलटेंसी नजर रखेगी।

 

निर्माण कार्यों से संतुष्ट होने के बाद बिल भी कंसलटेंसी ही बनाएगी। यानी पुल बनाने वाली एजेंसी और सरकार के बीच कंसलटेंसी सेतु का काम करेगी। कंसलटेंसी की देखरेख में कार्य कराने का फायदा यह होगा कि सरकार की शर्त और मानकों के अनुरूप पुल का निर्माण होगा।

सुपरविजन कंसलटेंसी की बहाली के लिए मंगलवार को छह एजेंसियों

  1. चैतन्या प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड,
  2. दोहवा इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड,
  3. हेक्सा कंपनी,
  4. एसए इंफ्रास्ट्रक्चर कंसलटेंट प्राइवेट लिमिटेड,
  5. स्टूप कंसलटेंट प्राइवेट लिमिटेड और
  6. सिस्ट्रा कंपनी की निविदा खोली गई।

तकनीकी बिड में सफल कंसलटेंट कंपनी की वित्तीय बिड खोली जाएगी। इधर, मंगलवार को ही विक्रमशिला सेतु के समानांतर पुल की निविदा भी खोली जानी थी, लेकिन अपरिहार्य कारणों से टेंडर भरने की तिथि बढ़ा दी गई है। अब 18 मई को निविदा खुलेगी। दरअसल, इससे पहले फरवरी, 2021 में लार्सन एंड टूब्रो के नाम से टेंडर फाइनल हुआ था, लेकिन भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण (आईडब्ल्यूएआइ) ने यह बताकर निर्माण पर रोक लगा दी कि पुल के स्पेन का फासला 100 मीटर नहीं था।

पानी जाहाज के को अहमियत.

भविष्य में माल धुलाई के साथ साथ कहलगाँव, मुंगेर इत्यादि के लिए यात्री क्रूज़ भी चलाए जाएँगे. चुकी इन इलको में हमेशा गंगा का जलस्तर क्रूज़ के लिए पर्याप्त रहता हैं अतः इसे मार्ग के रूप में बनाया जाएगा.

साथ ही गंगा डॉल्फ़िन प्रोजेक्ट के तहत शहर को नया इक्स्पिरीयन्स और टुरिज़म के लिए यह काफ़ी महतवपूर्ण होगा.

Categories
Bihar Development and good news Travel

भागलपुर, मुजफ्फरपुर, गया, दरभंगा को रिंग रोड, शहर के बाहर से निकलेगा सारा गाड़ी, अंदर केवल लोकल पब्लिक

पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने गुरुवार को दिल्ली में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के साथ सूबे के चार शहरों क्रमश: गया, मुजफ्फरपुर, दरभंगा और भागलपुर में रिंग रोड के निर्माण पर विमर्श किया। पथ निर्माण मंत्री ने इस मुलाकात के बताया कि इन चार शहरों के रिंग रोड के निर्माण पर सकारात्मक बातचीत हुई। जल्द ही मंजूरी की उम्मीद है। नितिन गडकरी ने इन चार रिंग रोड के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) को फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार किए जाने का निर्देश दिया है।

 

नितिन नवीन ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि मुजफ्फरपुर, गया, दरभंगा और भागलपुर बिहार के प्रमुख शहर हैं। हाल के वर्षो में इन शहरों में यातायात का घनत्व अप्रत्याशित रूप से बढ़ा है। इसलिए टैफिक की स्थिति सामान्य रहने के लिए यहां रिंग रोड की जरूरत है। गया की चर्चा करते हुए पथ निर्माण मंत्री ने कहा कि यह अंतरराष्ट्रीय धार्मिक व पर्यटन महत्व का शहर है। यह बिहार का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। यहां बाईपास व रिंग रोड नहीं रह ने से पर्यटकों को आवागमन में काफी असुविधा होती है।

 

दरभंगा बिहार का पांचवां सबसे बड़ा शहर है। इसे बिहार की सांस्कृतिक राजधानी माना जाता है। यहां भी कोई बाईपास और रिंग रोड नहीं रहने के कारण हमेशा जाम की समस्या बनी रहती है। मुजफ्फरपुर में वाहनों का दबाव अधिक है। इसलिए शहर को जाम की समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए रिंग रोड की जरूरत है।

कैसे करेगा काम ?

  • रिंग रोड से शहर से बाहर और शहर के छोरों पर होगी कॉनेटिविटी
  • बाहर की गाड़ियाँ बाइपैस और रिंग रोड के सहारे बाहर से निकलेंगी
  • जिसे भागलपुर मार्केट या लोकल होगा काम उनके लिए राह होगी आसान.