satyam mishra

भागलपुर : भागलपुर का सम्मान बढ़ाते हुए, अंग के लाल सत्यम मिश्रा ने अमेरिका से 28 लाख रुपये के साथ ‘फुल ब्राइट स्कॉलरशिप’ प्राप्त की है। सत्यम ने अमेरिका में ‘फुल ब्राइट डिस्टिंग्विस्ड अवार्ड्स इन टीचिंग प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल टीचर्स’ कोर्स पूरा करके भागलपुर के स्कूलों में ‘एआई’ का शिक्षण देने का निर्णय लिया है।

सत्यम का शोध विषय ‘शांति का गणित (मैथेमेटिक्स ऑफ पीस)’ और ‘आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इन टीचिंग’ था। उन्होंने अपने उत्कृष्ट शोध को प्रजेंट करने के लिए अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी बुलाया गया। वहां उन्हें व्हाइट हाउस की पॉलिसी डायरेक्टर और राष्ट्रपति जो बाइडन की पत्नी जिल बाइडन की सलाहकार माला अडिगा से मिलवाया गया।

भागलपुर को दिलाएंगे ‘एआई’ का ज्ञान

सत्यम का लक्ष्य अब भागलपुर के स्कूलों में शिक्षकों और छात्रों को ‘एआई’ के माध्यम से पढ़ाना है। उन्होंने बताया कि उनके कोर्स को करने के लिए प्रत्येक महादेश के 16 देशों से 50 लोगों का चयन हुआ था, जिनमें से 6 लोग भारतीय थे और सभी को इस स्कॉलरशिप से लाभ हुआ।

उनका शोध विषय दो अहम क्षेत्रों में था – ‘शांति का गणित’ और ‘आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इन टीचिंग’।

विदेश में गर्व से नवाजा गया

सत्यम ने अपने उत्कृष्ट कार्य के लिए गर्वित होते हुए कहा, “मुझे गर्व है कि मैंने भागलपुर का नाम रोशन किया है और अब मैं अपने शिक्षा के क्षेत्र में ‘एआई’ का ज्ञान साझा करूँगा।”

एक साल में 18 देशों में किया काम

इसके पहले भी सत्यम ने 2021 में यूनेस्को ग्लोबल टीचर प्राइज में चयन होकर अंतिम चरण में पहुंचे थे। उन्होंने इसके बाद 18 देशों में अपने शिक्षा के क्षेत्र में काम किया है। इसमें उनके विदेशी कार्यों का हिस्सा था, जिसमें वह मलाला यूसुफजाई के साथ लेबनान में एक स्कूल में पढ़ाते थे।

Working since 2014 When Early Internet Revolution Started in India. Experienced in content and delivering values to readers.

Leave a comment